सहस्त्र जन , सहस्त्र मन,

एक ही परिसीमन  |

पदों कि चाप , नुपुर कि छन्न ,

                                 किशोर मन….., किशोर मन ….

सहस्त्र कंठ , सहस्त्र ताल,

मचल उठे अशंख्य भाल |

उमंग से धड़क उठा ,

कोटि कोटि स्वर फूटा | |

भाव  बने गान फिर ,

कल्पना बनी सृजन | |

                           किशोर मन ….. किशोर मन ….

उमंगों कि घटा घनी,

सहस्त्र रागिनी छनी |

प्रखर, प्रचंड तेज है ,

सुरों में एक ओज है |

धड़क रहा हृदय हृदय,

थिरक रहा हर एक तन  | |

                               किशोर मन…  किशोर मन ….

पवित्र हो गयी धरा,

हुआ है देव आगमन  |

क्षितिज के एक छोर पर ,

ठहर के देखो सूर्यरथ  |

निहार अपलक रहा ,

विभूतियों का ये मिलन | |

                             किशोर मन … किशोर मन ……

-उपेन्द्र दुबे

Advertisements