यह गीत मेरी आवाज में आप इस गीत को मेरी आवाज में सुनने के लिए दिए लिंक पर click करें …

रंग अंग से लगे तो,
बात बन गयी नयी |
जिन्दगी का रंग देखो,
खो गया यहीं कहीं | |
आज ढूंढता हूँ मैं, दीवारों की कगार पर |
सूने मन की बेबसी , उम्मीदों की बहार पर | |

रंग आस छोड़ते हैं ,
आज कल करार पर |
सौदों की गली रंगी है,
आज द्वार द्वार पर | |

भेजूं मैं कहाँ, किसे?
की हर गली में शोर है |
आज प्रीत खो गयी है,

वास्तों का जोर है | |

बस उम्मीद है रंगी,
कफ़न कहीं लपेट कर  |
जल रही है होलिका,
हरेक सांझ पेट पर | |

राख पेट की उड़े जो,  कल सुबह समेट कर  |
क्या कहूं मैं होली है ये, जिंदगी की भेंट पर | |

गर ये भेंट रंग गयी तो, होली भी बवाल है
खुशनुमा है रंग या, ख़ुशी भी एक सवाल है?

कुछ अजीब रंग की, बिखरती आज होली है |

कहीं पे रंग रही कबर, कहीं पे सांझ रोली है | |

भेंट रंग गयी अगर तो, जिंदगी खरीद है |

रंग बिक रहे हैं आज, होली हुई गरीब है | |

राख पेट गाल पर, मलूँगा रोज सांझ को |

खुशियों से भरी ये जिंदगी, जनेगी बाँझ को | |

लोग जायेंगे सिमट, ये रंग कारोबार में |

नाप तौल से भरी, खुशी बिकी बाजार में | |

रंग काटते हैं गर, तो मैं तुम्हे भी क्या रंगू |

कांट छाँट कर ये रंग, जिंदगी में क्या भरूं | |

दूं मुबारकों भरी, या भावना की पाती मैं |

किस खुशी की व्यंजना, जो खुश नहीं हूँ साथी मैं | |

–उपेन्द्र दुबे

०८/०३/२०१२

Advertisements