ज़िंदगी …

टिप्पणी करे


ढलते सूरज की रोशनी का बोझ

डूबते उतराते उनके साथ कहीं गुम जाने की सोच

लुटती गहराइयों में घुल जाने की बेबसी

बिखरती ज़िंदगी पर पसरी एक अनजानी हँसी

शाश्वत एकांत से गलबहियां डाले नश्वर कोलाहल

सर्वत्र फैलता एक अजीब सा हालाहल

मिटते पैरों के निशान

आँसुओं में धुलते अनेक बेजुबान

कुछ कहा जाता है

बहुत कुछ अनकहा कहीं गुम जाता है

अपने शहर में अजनबी लोग

बेजान सी सख्शियत, अनजाना संयोग

दूर कहीं कुछ सिसक सी रही है

कुछ तो है जो अब तक टसकती कहीं है

ढूंढने की कोशिश युगांतर पर खड़ा करती है

ज़िन्दगी अपनी बरबादी शायद खुद ही गढ़ा करती है

तभी तो पलों का ये कारवाँ हर पल लूटा करता है

कुछ पाने का जनाज़ा काँधे चढ़ा करता है

सबकुछ पल में बुना हो, तो मन की दशा है

नहीं तो पलों की ये त्रासदी, शायद एक दुर्दशा है

इन्हे संजोने की क्रिया ज़िंदगी

खो जाने का भय बेबसी

संघर्स का साहस शायद जीवटता

और बिखर जाने की शिकन मृत्यु की कर्मठता

न जाने कब कहाँ किससे किस पल भेंट हो

जीवन का न जाने कैसा कब परिवेश हो

भाव शब्दों में बंधने को अकुलाते हैं

बंधता कहाँ कुछ, बस सब पीछे छूट जाते हैं

इस रंगमंच पर शायद सबकुछ तय है

मगर फिर भी इस व्यंजना में एक लय है

तभी तो पात्र अपनी भूमिका तन्मयता से निभाता है

नहीं तो पटाक्षेप कहाँ किसको भाता है।

 पटाक्षेप कहाँ किसको भाता है.…।

 –उपेन्द्र दुबे

(२४ / ०२ / २०१५ )

एक सांझ ….

18 टिप्पणियाँ


कल पर्वत के पार वही, एक सूरज दौड़ा जाता था |

किरणों की चटकार गगन पर, सहसा छोड़ा जाता था | |

मातम का संगीत परिंदे, चिचिया कर दोहराते थे |

फड़फड़ की बेचैनी भी, पंखों में बसते जाते थे | |

क्यूँ उधार का रंग ओढ़, कल सांझ बहुत इठलाई थी ?

वो प्रहर भी तो ना बीत सका, जब रात दौड कर आई थी | |

रंगों की वो डली यहाँ कल, ऐसे लुटती जाती थी |

धूसर मेघों की श्यामलता, रंगों में सिमटाती  थी | |

दुल्हन सा माधुर्य लुटा था |

यौवन का चातुर्य छुटा था | |

धकियाती कल रात प्रवर थी |

अंधियारी वो बात प्रखर थी | |

उहापोह के आँगन में वो, किरणें क्यूँ सिसियाती थी ?

क्यूँ भविष्य भी वर्तमान में, मिलने को बौराती थी ? ?

क्यूँ मलिन पर्वत का सर, यूँ चमक लिए इतराता था ?

क्यूँ समीर यूँ शांत भाव से, बहते भी टकराता था ? ?

वन में वृक्षों की मस्ती भी, कोलाहल बन क्यूँ बिखरी थी ?

क्यूँ बदरी की बूंदों में, हालाहल घुल कर उतरी थी ?

कलकल निर्झर का गीत भी क्यूँ, क्रंदन अरुणोदित लगता था ?

क्यूँ पाहन तट के संबल बन, मन भी अनुमोदित करता था ? ?

स्वप्न साज बन क्यूँ प्रपंच, मन में  मादकता भरती थी ?

क्यूँ अकुलाती वो प्यास वहीँ, तट पर रहकर ना बुझती थी ? ?

कल रात वहीँ निर्झर तट पर, मैंने लहरों से बातें की |

गीले उस रेत के दामन में, कुछ आढ़ी तिरछी रेखा दी | |

वो चंद लकीरें मिल कर के, एक नन्हा खाका खिंच गयीं |

थी सुबह धुप की फिक्र किसे, वो तो थी अँखियाँ भींच गयीं | |

–उपेन्द्र दुबे

१३/०१/२०१२